HomeHimachal NewsHRTC की 40 फीसदी बसें खराब, जनता की जान जोखिम में डाल...

HRTC की 40 फीसदी बसें खराब, जनता की जान जोखिम में डाल रहा निगम

The condition of buses in Himachal Road Transport Corporation is bad, due to which accidents are also happening every day. The Mandi Pandoh accident also happened due to a technical fault in the bus, in which the driver's intelligence saved the passengers but lost his life. The HRTC driver union has demanded a job and 50 lakh compensation to the family of the accident victim within a month. Thakur Man Singh, president of HRTC Driver Union accused the Road Transport Corporation that 40 percent of the buses in the corporation were running poorly. The corporation is putting the driver as well as the passengers in danger. There is neither a mechanic nor enough spare parts available in the HRTC workshop. The hooliganism of private bus drivers is increasing day by day. The government should issue the time table of buses, otherwise the drivers will not take the buses on the route.

HRTC की 40 फीसदी बसें खराब, जनता की जान जोखिम में डाल रहा निगम

Himachal Road Transport Corporation में बसों की हालत खस्ता है, जिस वजह से आए दिन हादसे भी हो रहे हैं। Mandi Pandoh accident भी बस में तकनीकी खराबी के कारण हुआ जिसमें चालक की होशियारी ने सवारियों को तो बचा लिया लेकिन खुद की जान गवां बैठा। HRTC driver union ने हादसे में शिकार चालक के परिवार को एक महीने के भीतर नौकरी और 50 लाख मुआवजे की मांग की है।

यह भी पढ़ें : अति दुखद : छुट्टी पर घर आए जवान का दुखद निधन, राजकीय सम्मान के साथ हुआ संस्कार

Thakur Man Singh, president of HRTC Driver Union ने पथ परिवहन निगम पर आरोप लगाया कि निगम में 40 फीसदी बसें खराब चल रही है। चालक के साथ साथ सवारियों को भी निगम खतरे में डाल रहा है। HRTC workshop में न तो मैकेनिक है, और न ही पर्याप्त स्पेयर पार्ट्स उपलब्ध हैं। निजी बस चालक की गुंडागर्दी हर रोज बढ़ रही है। सरकार बसों का टाइम टेबल जारी करें अन्यथा चालक बसें रूट पर नहीं ले जायेंगे।

उन्होंने कहा कि महीने की 7 तारीख हो चुकी है, लेकिन तनख्वाह नहीं मिली है। चालक चाह कर भी पंडोह हादसे के शिकार चालक के परिवार की मदद नहीं कर पा रहे हैं। परिवहन निगम ने अगर समय पर सुध नहीं ली तो चालक यूनियन आंदोलन की राह अपनाने को मजबूर होगा।

RELATED ARTICLES

Most Popular