HomeHimachal Newsहिमाचल Congress : हो गया वादा! सत्ता में आते ही कांग्रेस बहाल...

हिमाचल Congress : हो गया वादा! सत्ता में आते ही कांग्रेस बहाल करेगी Old Pension स्कीम

According to the information received, today the team of NPS Employees Federation Section Banikhet had gone to meet Asha Kumari. While giving assurance to all the office bearers of the federation, MLA Asha Kumari said that the old pension will be restored as soon as the Congress government is formed in Himachal. Not only this, the Congress MLA also said that she will raise this demand of NPS employees in the assembly.

सत्ता में आने के लिए तमाम राजनीतिक दल कई तरह के वादे कर मतदाताओं को लुभाने की कोशिश करते हैं। वहीं, अब Himachal Pradesh में इस साल के अंत में चुनाव होने हैं। ऐसे में सूबे के राजनीतिक दल यहां भी वादा करने में जुट गए हैं।

MLA Asha Kumari ने मारा पहला हाथ
इसी कड़ी में सबसे पहला और मजबूत हाथ मारा है सूबे की प्रमुख विपक्षी पार्टी कांग्रेस ने। दरअसल, Himachal Congress की कद्दावर नेता और चंबा के अंतर्गत आते Dalhousie की MLA Asha Kumari ने सरकार आने पर old pension बहाली की बात कही है।

मिली जानकारी के अनुसार आज NPS Employees महासंघ खंड Banikhet की टीम Asha Kumari से मिलने के लिए गई हुई थी। जहां महासंघ के तमाम पदाधिकारियों को भरोसा देते हुए MLA Asha Kumari ने कहा हिमाचल में कांग्रेस की सरकार बनते ही पुरानी पैंशन बहाल की जाएगी। इतना ही कांग्रेस विधायक ने यह भी कहा कि एनपीएस कर्मचारियों की इस मांग को वह विधानसभा में उठाएंगी।

सरकार अपने दृष्टि पत्र के वायदों को 4 साल में पूरा नहीं कर पाई
बकौल आशा कुमारी, अभी तक जयराम सरकार द्वारा कमेटी गठन और 2009 की अधिसूचना को लागू न करना दुर्भाग्यपूर्ण है। सरकार कर्मचारियों के हितों के साथ खिलवाड़ कर रही है।

वहीं, इस मसले पर महासंघ के लोगों का कहना है कि प्रदेश सरकार अपने दृष्टि पत्र के वायदों को 4 साल में पूरा नहीं कर पाई है।

महासंघ की तरफ से आगे कहा गया कि अगर बजट सत्र में पुरानी पेंशन योजना को लागू नहीं किया गया तो प्रदेश के 1 लाख NPS employees Shimla जाकर सरकार का घेराव करेंगे। district Chamba के सभी विधायकों से मिलकर एनपीएस कर्मचारी पुरानी पेंशन बहाली को लेकर अंतिम बार आग्रह करेंगे। मांग पूरी न होने पर चुनावों का बहिष्कार किया जाएगा।

RELATED ARTICLES

Most Popular