HomeHimachal Newsहिमाचल शिक्षा विभाग में 2117 नौकरियां; TGT के 1587 और स्कूल लेक्चरर...

हिमाचल शिक्षा विभाग में 2117 नौकरियां; TGT के 1587 और स्कूल लेक्चरर के 530 पद भरने की तैयारी

विधानसभा चुनाव से ठीक पहले हिमाचल के शिक्षा विभाग में 2117 नौकरियां (Education department of Himachal 2117 jobs ) जल्द मिल सकती हैं। एक तरफ एलीमेंट्री शिक्षा विभाग ने टीजीटी के 1587 पदों पर भर्ती (Recruitment to 1587 posts of TGT Himachal )के लिए सरकार से मंजूरी मांगी है, वहीं दूसरी तरफ हायर एजुकेशन की तरफ से 530 पद स्कूल लेक्चरर के भरे जाने के लिए आग्रह किया गया है। इन दोनों मामलों में शिक्षा सचिव ने फाइल अनुमति के लिए वित्त विभाग में भेज दी है।

टीजीटी हिमाचल के 1587 पद ( 1587 posts of TGT Himachal )

टीजीटी के 1587 पदों में से अभी तक राज्य सरकार से सिर्फ 87 पदों को भरने की अनुमति मिली है, लेकिन प्रारंभिक शिक्षा विभाग बाकी पदों के लिए भी क्लीयरेंस आने के बाद ही भर्ती शुरू करेगा। इसमें टीजीटी आट्र्स के 744, टीजीटी नॉन मेडिकल के 557 और टीजीटी मेडिकल के 286 पद हैं। इनमें से आधे पद बैचवाइज भर्ती में जाएंगे।

सचिवालय में शिक्षा विभाग ने इस मामले को वित्त विभाग के लिए आगे बढ़ा दिया है। अब वहां से क्लीयर होने के बाद ही शिक्षा विभाग को इसकी मंजूरी मिलेगी और फिर इस बारे में रिक्विजिशन संबंधित भर्ती आयोगों को जाएगी। स्कूल लेक्चरर की भर्ती लोक सेवा आयोग करता है, जबकि टीजीटी की भर्ती हमीरपुर कर्मचारी चयन आयोग करेगा। टीजीटी के कुल पदों में से आधे बैचवाइज आधार पर भरे जाएंगे। इस कारण बैच से नौकरी का इंतजार कर रहे लोगों को भी इसका लाभ मिलेगा।

स्कूल प्रिंसीपल प्रोमोशन मानसून सत्र के बाद (School Principal Promotion After Monsoon Session)

स्कूल प्रिंसीपल प्रोमोशन (school principal promotion Himachal ) पर फैसला मानसून सत्र के बाद होगा। उच्च शिक्षा निदेशालय ने डीपीसी के लिए जरूरी सभी दस्तावेज सचिवालय पहुंचा दिए हैं और अब शिक्षा सचिव के स्तर पर ही यह डीपीसी होनी है।

हिमाचल के स्कूलों (Himachal schools) में 2016 से प्रिंसीपल प्लेसमेंट ( principal placement) के आधार पर लगाए जा रहे हैं और इन्हें रेगुलर प्रोमोशन दिया जाना अभी बाकी है। इनमें से बहुत से प्रिंसीपल रिटायर हो चुके हैं, लेकिन प्रोमोशन के वित्तीय लाभ का इंतजार कर रहे हैं। शिक्षा सचिव कार्यालय इस बारे में अब मानसून सत्र के बाद ही कोई फैसला ले पाएगा।

RELATED ARTICLES

Most Popular